विश्व होमिंयोपैथी दिवस पर विशेष : होम्योपैथी में है हर मर्ज का प्रभावकारी इलाज

0 0
Read Time:4 Minute, 5 Second
डॉक्टर रूप कुमार बनर्जी, वरिष्ठ होम्योपैथी चिकित्सक

सहज, सरल, सुगम चिकित्सा पद्धति होम्योपैथी की खोज एक जर्मन चिकित्सक, डॉ. क्रिश्चन फ्रेडरिक सैमुएल हैनिमैन (1755-1843), द्वारा अठारहवीं सदी के अंत के दशकों में की गयी थी। यह “सम: समम् शमयति” या “समरूपता” दवा सिद्धांत पर आधारित एक चिकित्सीय प्रणाली है। यह दवाओं द्वारा रोगी का उपचार करने की एक ऐसी विधि है, जिसमें किसी स्वस्थ व्यक्ति में प्राकृतिक रोग का अनुरूपण करके समान लक्षण उत्पन्न किया जाता है, जिससे रोगग्रस्त व्यक्ति का उपचार किया जा सकता है। इस पद्धति में रोगियों का उपचार न केवल होलिस्टिक दृष्टिकोण के माध्यम से, बल्कि रोगी की व्यक्तिवादी विशेषताओं को समझ कर उपचार किया जाता है।

डॉक्टर सौम्यो रतन बनर्जी

होम्योपैथिक दवाओं को पशुओं, पौधों, खनिज के अवशेष और अन्य प्राकृतिक पदार्थों से उर्जाकरण या अंत: शक्तिकरण नामक एक मानक विधि के माध्यम से तैयार किया जाता है।इस प्रकार “शक्तिकरण” के माध्यम से तैयार की गयी दवाईयां बीमारियों का मुकाबला करने के लिए पर्याप्त रूप में अपनी अंत: शक्ति क्षमता प्राप्त करती है, जबकि साथ ही साथ विषाक्तता के अभाव को भी सुनिश्चित किया जाता है। आमतौर पर दवाओं के रोगनाशक गुणों का पता लगाने के लिए औषधियों को किसी स्वस्थ मनुष्य में प्रमाणित किया जाता है। यह प्रणाली जीव में एक स्व-विनियमन शक्ति की मौजूदगी में विश्वास रखती है, जो किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य, रोग और इलाज के दौरान अपनाया जाता है। चिकित्सक, रोगी की शारीरिक और मानसिक स्तर को समझते हुए, लक्षणों के माध्यम से रोगी की वैचारिक छवि बना कर रोगी के लिए सबसे उचित दवा का चयन करते है।

डॉक्टर अरुणिमा बनर्जी

होम्योपैथिक दवाएं प्रभावी, रुचिकर हैं, इनका कोई विशेष प्रतिकूल प्रभाव नहीं है और इनका आसानी से सेवन किया जा सकता है। कुछ मामलों में, बोझिल और महंगे नैदानिक ​​उपचार विधियों पर निर्भर रहे बिना रोगियों के लक्षणों के आधार पर दवाओं को निर्धारित किया जाता है। होम्योपैथी मनोदैहिक विकारों, स्व-प्रतिरक्षित बीमारियों, बुढ़ापे और बाल चिकित्सा विकारों, गर्भावस्था के दौरान होने वाली बीमारियों, दुःसाध्य त्वचा रोगों, जीवन शैली से सम्बंधित विकारों और एलर्जी, आदि के उपचार में उपयोगी रही है। होम्योपैथी की कैंसर, सोरियासिस, एचआईवी/ एड्स जैसे लाइलाज पुराने रोग वाले मरीजों और रुमेटिक गठिया आदि जैसी विकलांग बनाने वाली बीमारियों में जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने में एक सकारात्मक भूमिका भी है। इसकी लोकप्रियता दुनिया भर में तेजी से बढ़ रही है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Blog Uttar Pradesh

गाय की हाय

अनिल त्रिपाठी (लेखक दूरदर्शन के अंतर्राष्ट्रीय कमेंट्रेटर, वरिष्ठ पत्रकार) चिलचिलाती धूप में भूख से बिलबिलाती गौमाता जी हाँ यही कटु सत्य है गौसेवक मुख्यमंत्री के उत्तर प्रदेश की अधिकांश गौशालाओं का। उत्तरप्रदेश में लगभग पाँच सौ पंजीकृत गौशालाएं हैं। जिनके लिये प्रदेश सरकार की तरफ से प्रतिवर्ष न्यूनतम 600 करोड़ रुपये से अधिक की राशि […]

Read More
Blog gorakhpur अध्यात्म इतिहास

सनातन मूल्यों की संवाहक देवरिया की पैकौली कुटी

वैष्णव संप्रदाय की सबसे बड़ी पीठ है पैकौली कुटी विवेकानंद त्रिपाठी (वरिष्ठ पत्रकार) सनातन जीवन मूल्यों के क्षरित होने वाले आधुनिक परिवेश में देवरिया जनपद स्थित पवहारी महाराज की गद्दी इन मूल्यों की थाती को बहुत ही संजीदगी के साथ संजोए हुए है। यह वैष्णव संप्रदाय की सबसे बड़ी पीठ मानी जाती है। कोई 300 […]

Read More
Blog ज्योतिष

साप्ताहिक राशिफल : 16 जून दिन रविवार से 22 जून दिन शनिवार तक

आचार्य पंडित शरद चंद्र मिश्र अध्यक्ष – रीलीजीयस स्कॉलर्स वेलफेयर सोसायटी सप्ताह के प्रथम दिन की ग्रह स्थिति – सूर्य, बुध और शुक्र मिथुन राशि पर, चंद्रमा कन्या राशि पर, मंगल मेष राशि पर, बृहस्पति वृषभ राशि पर, शनि कुंभ राशि पर, राह मीन राशि पर तथा केतु कन्या राशि पर संचरण कर रहे हैं […]

Read More
error: Content is protected !!