पुरुष और नारी को एक साथ जोड़ने पर ही समाज में पूर्णता : प्रोफेसर शुभा तिवारी

0 0
Read Time:4 Minute, 5 Second
  • अंग्रेज़ी विभाग द्वारा आयोजित पुनश्चर्या पाठ्यक्रम

एनआईआई ब्यूरो

गोरखपुर। पुरुष और नारी को एक साथ जोड़ने पर ही समाज में पूर्णता आ सकती है। पुरुष यदि कार्य है तो नारी उस कार्य के ठीक पूर्व की सम्प्रेषण है। नारी को दायित्व देना चाहिए, थोपना नहीं चाहिए क्योंकि वेद, उपनिषद और गीता में नारी की प्रशस्ति  की गई है जो उस समय की सनातन समाज में उनकी मजबूत स्थिति को दर्शाती है। सीता, कैकेयी, मंथरा, अहिल्या बाई, अपाला, घोषा, गार्गी और मीरा बाई जैसी नारी शक्ति नें जड़ समाज में अपने ज्ञान और संघर्षशीलता से दखल पैदा की जिससे समाज ने इनके महत्व को इज्जत से स्वीकार किया।.उक्त बातें अंग्रेजी विभाग एवं यूजीसी एच आर डी सी द्वारा आयोजित पुनश्चर्या पाठ्यक्रम के पांचवे दिन के प्रथम सत्र में प्रो. शुभा तिवारी, अंग्रेजी विभाग, रीवॉ विश्वविद्यालय ने नारी विमर्श के सनातन और आधुनिक हस्तक्षेप को भारतीय भाषा और साहित्य के विशेष संदर्भ में प्रस्तुत करते हुए कही। दूसरे सत्र में प्रो. सर्वेश सिंह, अध्यक्ष, हिन्दी विभाग, बाबा भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ ने भारतीय भाषा और साहित्य के अन्तः अनुशासनिक अध्ययन के विविध खतरों एवं विसंगतियों पर सभी का ध्यान आकृष्ट किया।

प्रो. सर्वेश सिंह ने माना कि शोध संस्थानों के विकास के लिए अन्तः अनुशासनात्मक स्वरूप को रखना अति आवश्यक है। प्रो. सर्वेश सिंह ने भाषा और साहित्य के तुलनात्मक अध्ययन की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि औपनिवेशिक दर्शनों और आलोचनाओं पर जब तक हम केन्द्रित रहेंगे तब तक अपनी भारतीय संस्कृति और भाषा के प्रति न्याय नहीं कर सकते हैं। इसलिए आवश्यकता है अपने धर्म, दर्शन और भाषा -साहित्य को अपनी स्वयं की निरपेक्ष दृष्टि से देखने की। तृतीय सत्र में प्रो. अच्युता नन्द मिश्र, केरल विश्वविद्यालय ने मनुष्य और संस्कृति के पारस्परिक विकासात्मक अध्ययन को समय और परिस्थितियों के क्रम में व्यवस्थित रूप में प्रस्तुत किया। अपने व्याख्यान में प्रो. मिश्र ने माना कि सभ्यता के विकास के ही साथ-साथ मनुष्य में स्वतंत्रता, समानता और न्याय के प्रति जागरूकता  प्रारम्भ हुई जिसका मुख्य स्रोत उपन्यास और भाषा से ही निर्मित हुई।

अंग्रेजी विभाग के विभागाध्यक्ष एवं पाठ्यक्रम के समन्वयक प्रो अजय कुमार शुक्ला ने अतिथियों का स्वागत किया उन्होंने बताया कि इस पाठ्यक्रम में अंग्रेजी संस्कृत हिंदी एवं व्याकरण के 52 प्रतिभागी प्रतिभाग कर रहे हैं। यह पाठ्यक्रम 2 अगस्त तक चलेगा। आज के विभिन्न सत्रों का संचालन डॉ मनीष गौरव, डॉक्टर विजय आनंद मिश्रा डॉ अखिल मिश्रा ने किया।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Blog ज्योतिष

साप्ताहिक राशिफल : 16 जून दिन रविवार से 22 जून दिन शनिवार तक

आचार्य पंडित शरद चंद्र मिश्र अध्यक्ष – रीलीजीयस स्कॉलर्स वेलफेयर सोसायटी सप्ताह के प्रथम दिन की ग्रह स्थिति – सूर्य, बुध और शुक्र मिथुन राशि पर, चंद्रमा कन्या राशि पर, मंगल मेष राशि पर, बृहस्पति वृषभ राशि पर, शनि कुंभ राशि पर, राह मीन राशि पर तथा केतु कन्या राशि पर संचरण कर रहे हैं […]

Read More
Blog ज्योतिष

साप्ताहिक राशिफल : 9 जून दिन रविवार से 15 जून दिन शनिवार तक

आचार्य पंडित शरद चंद्र मिश्र अध्यक्ष – रीलीजीयस स्कॉलर्स वेलफेयर सोसायटी सप्ताह के प्रथम दिन की ग्रह स्थिति – सूर्य, बुध और गुरू वृषभ राशि पर, चंद्रमा मिथुन राशि पर, मंगल मेष राशि पर, शुक्र मिथुन राशि पर, शनि कुंभ राशि पर, राहु मीन राशि और केतु कन्या राशि पर संचरण कर रहे हैं – […]

Read More
Blog States uttar pardesh

अविलंब बंद हो अयोध्यावासिसों पर तिरस्कारपूर्ण कटाक्ष

अनिल त्रिपाठी (लेखक दूरदर्शन के अंतर्राष्ट्रीय कमेंट्रेटर, वरिष्ठ पत्रकार) लोकसभा चुनाव में जनता ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को पूर्ण बहुमत देते हुए देश की बागडोर एक बार पुनः नरेंद्र मोदी के हाथ सौंपने का स्पष्ट जनादेश दिया है। किंतु संख्याबल देश की अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा। इसी वजह से विजयी होने के बावजूद राष्ट्रवादी […]

Read More
error: Content is protected !!