छठ पर्व पर विशेष : जाने छठ व्रत मानने के नियम और परंपराएं

0 0
Read Time:26 Minute, 17 Second

आचार्य पंडित शरद चंद्र मिश्र

अध्यक्ष – रीलीजीयस स्कॉलर्स वेलफेयर सोसायटी

सूर्य षष्ठी व्रत वर्ष में दो बार किया जाता है, हलांकि इसकी कार्तिक मास में ज्यादा प्रचलन है। एक चैत्र मास में दूसरा कार्तिक मास में। चैत्र शुक्ल षष्ठी पर मनाए जाने वाले षष्ठी पर्व को चैती छठ एवं कार्तिक शुक्ल षष्ठी पर मनाए जाने वाले छठ पर्व को कार्तिक छठ पर्व कहते हैं। छठ पूजा पर्व में व्रत, उपवास, उपासना पूजा, अर्घ्य आदि में पवित्रता आदि का विशेष ध्यान रखा जाता है। दीपावली पर हुई साफ- सफाई के उपरांत भी इस पर्व में पुनः घर , रसोई आदि को धोया जाता है और व्रत में उपयोग की जाने वाली वस्तुओं की पवित्रता पर विशेष ध्यान रखा जाता है। इस पर्व पर निर्मित भोजन – प्रसाद आदि में लहसुन, प्याज आदि वर्जित होते हैं।

सूर्योपासना का छठ पर्व महोत्सव

कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से सप्तमी तिथि तक सूर्य षष्ठी महोत्सव का आयोजन होता है। भैया दूज के तीसरे ‌( तिथि क्षय में दूसरे) दिन चतुर्थ दिवसीय सूर्य षष्ठी पर। वह या छठ पर्व मनाया जाता है। यह पर्व बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश, झारखंड और नेपाल के तराई क्षेत्रों में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। बिहार से बहिर्गमन कर अन्यत्र निवास करने वाले व्यक्तियों के द्वारा भी यह पूर्ण हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।यही कारण है कि षष्ठी और सप्तमी के दिन दिल्ली में यमुना के तट और मुम्बई के जूहू समुद्र तट पर बिहार, झारखंड जैसा उत्साह, हर्ष और जनसैलाब दिखाई देने‌को मिलता है।

इसे षष्ठी देवी के निमित्त भी मनाया जाता है। लोक परंपरा के अनुसार षष्ठी देवी भगवान सूर्य की बहन थीं। इनकी पूजा सर्वप्रथम भगवान सूर्य ने ही की थी। पुराणों में उल्लेख है कि राजा प्रियव्रत के कोई संतान नहीं थी। तब महर्षि कश्यप उनसे पुत्रेष्टि यज्ञ करवाया। उसके प्रभाव से राजा प्रियव्रत की पत्नी के एक पुत्र उत्पन्न हुआ, परंतु वह मृत अवस्था में उत्पन्न हुआ था। प्रियव्रत पुत्र के वियोग में अत्यंत व्याकुल हुए और प्राण त्यागने के लिए उद्धृत हुए, इसी समय षष्ठी देवी प्रकट हुई। उन्होंने कहा कि सृष्टि के मूल प्रकृति के छठें अंश से उत्पन्न होने के कारण मैं षष्ठी कहलाती हूं। राजन, तुम मेरा पूजन करो। तब राजा ने कार्तिक शुक्ल षष्ठी को पुत्रेच्छा से देवी षष्ठी का व्रत किए और उनकी विधिवत पूजा की। उसके प्रभाव से उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई। कुछ कथाओं के अनुसार उनका मृत पुत्र जीवित हो गया। ऐसा माना जाता है कि तब से यह व्रत और पूजा प्रचलित हुआ है।

छठ पर्व का आरंभ नहाय खाय से आरंभ होता है। यह 17 नवंबर दिन शुक्रवार को है। इस दिन सूर्योदय 6 बजकर 37 मिनट पर चतुर्थी तिथि का मान दिन में 11 बजकर 38 मिनट पश्चात पंचमी तिथि, पूर्वाषाढ़ नक्षत्र सम्पूर्ण दिन भर और रात को 2 बजकर 37 मिनट पश्चात उत्तराषाढ़ , इस दिन धृतियोग और प्रवर्धमान नामक औदायिक योग है,तथा इसके अतिरिक्त स्थायियोग( जय योग), रवियोग और द्विपुष्कर योग भी है। इस प्रकार इस दिन पांच शुभ योगों की स्थिति बन रही है।इसी दिन से सूर्य षष्ठी व्रत आरंभ हो रहा है। नहाय खाय के अन्तर्गत व्रती को सामान्यतः घर की जो प्रमुख महिला होती है, वह समीप के नदी या तालाब पर जाकर स्नान करती है और उसके बाद घर पर आकर खाना पकाती है। खाने में कद्दू और चावल पकाया जाता है। इसे कद्दू भात कहते हैं। व्रती महिला उपवास करती है और रात में जमीन या काष्ठासन पर होती है। सांयकाल एक समय कुछ प्रसाद ग्रहण करती है।

खरना- व्रत का द्वितीय दिन 18 नवंबर दिन शनिवार, इस दिन सूर्योदय 6 बजकर 38 मिनट, कार्तिक शुक्ल पंचमी तिथि का मान‌ प्रातः काल 9 बजकर 53 मिनट मिनट, पश्चात षष्ठी तिथि, इस दिन उत्तराषाढ़ नक्षत्र दिन भर और रात को 1 बजकर 22 मिनट, पश्चात श्रवण नक्षत्र और शूल तदुपरि वृद्धि नामक योग है। यह सूर्य षष्ठी व्रत का द्वितीय दिवस रहेगा। इस दिन व्रती महिला उपवास करती है और सायंकाल पूजा करने के बाद व्रत खोलती है। व्रत खोलने में नैवेद्य अर्थात प्रसाद का उपयोग होता है।इस प्रकिया को खरना कहते हैं। निर्जल उपवास के दिन सायंकाल 5 बजकर 22 मिनट पर अस्तगामी सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा।

निर्जल उपवास

यह व्रत का तीसरा दिन है। यह 19 नवंबर दिन रविवार को है। यह कार्तिक शुक्ल षष्ठी तिथि का दिन होता है। इस दिन सूर्योदय 6 बजकर 38 मिनट और कार्तिक शुक्ल षष्ठी तिथि का मान प्रातः काल 7 बजकर 50 मिनट तक पश्चात सप्तमी तिथि है।इस दिन सायंकालीन अर्घ्य (सूर्यास्त के समय- इस वर्ष 5 बजकर 22 मिनट पर ) दिया जाएगा है। इस दिन श्रवण नक्षत्र दिन सम्पूर्ण दिन और रात को 11 बजकर 52 मिनट तक, धनिष्ठा नक्षत्र वृद्धि और ध्रुव नामक दो शुभ योग हैं। इस दिन व्रती महिला निर्जल उपवास रखती है।

सूर्यास्त के समय से कुछ ही पूर्व तालाब या नदी के किनारे जाती हैं और पूर्व निर्मित षष्ठी माता की पूजा करती है। सूर्यास्त के समय जल में खड़े होकर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य प्रदान करती है। अर्घ्य दूध और जल से दिया जाता है। अर्घ्य देने के बाद सूपों में रखा सामान भगवान सूर्य और माता षष्ठी देवी को अर्पित किया जाता है। प्रसाद सामग्री में मौसमी फलों के अलावा ठेकुआ और लड़ूआ आदि मुख्य होते हैं। ठेकुआ गेंहू के आटे से बनाया जाता है और लडुआ चावल के आटे से। सूर्यास्त के पश्चात प्रसाद की सामग्री को सूपों में रखकर घर लाया जाता है और रात्रि में जागरण कर षष्ठी माता की कहानी सुनी जाती है।

चतुर्थ दिन

इस दिन प्रातःकाल सूर्योदय के समय अर्घ्य देकर पारण किया जाता है और माता षष्ठी देवी को विदा किया जाता है। यह 20 नवंबर दिन सोमवार को है।इस दिन धनिष्ठा नक्षत्र और ध्रुव योग तथा शुभ नामक नामक औदायिक योग है। इस प्रकार सूर्य षष्ठी का महापर्व प्रवर्धमान योग से प्रारंभ होकर शुभ योग में समाप्त हो रहा है। ऐसा योग कदाचित ही प्राप्त होता है। सूर्य को परम ब्रह्म और माया षष्ठी को परा प्रकृति की संज्ञा दी जाती है। इस महापर्व पर समस्त देवगणों की अनुकंपा व्रतियों को प्राप्त होगा। चतुर्थ दिन प्रातःकाल के अर्घ्य का समय–20 नवंबर दिन सोमवार को प्रातः 6 बजकर 39 मिनट पर यह अर्घ्य प्रदान किया जाएगा।

इस पूजा का सर्वाधिक महत्वपूर्ण पक्ष इसकी सादगी, पवित्रता, भक्ति एवं अध्यात्म है। इसकी उपासना पद्धति एकदम सरल है, जिसमें किसी आचार्य की आवश्यकता नहीं है। यह लौकिक रीति- रिवाजों एवं सरल ग्रामीण जीवन पर आधारित है। वर्तमान में इसकी सादगी में परिवर्तन आ रहा है। अब बड़े-बड़े पाण्डाल लगाए जा रहे हैं, जिसमें सूर्यदेव की मूर्ति स्थापित की जा रही है। पटाके छोड़े जा रहे हैं और बड़ी- बड़ी सन्ध्याएं भजन आयोजित की जा रही हैं।

पर्व के चारों दिनों में हर्षोल्लास का माहौल रहता है। सूर्यास्त एवं सूर्योदय पर अर्घ्य के दौरान नदी एवं तालाब के किनारे मेरे जैसा माहौल रहता है। व्रती महिला के साथ घर के सभी सदस्य भी पूजा स्थल पर पहुंचते हैं और व्रती महिला से आशिर्वाद लेते हैं। नदी और तालाबों के किनारे दीपों की श्रंखला देखते ही बनती है। चारो ओर सूर्य षष्ठी या मां छठ के गीतों से वातावरण गुंजायमान रहता है। ऐसे ही कतिपय गीतों की अन्तरा निम्नानुसार हैं-

“अन्न दिहले, धन दिहले, वंश बढ़ावे ना, जब बबुआ होई हमके, तब हम छठ करबों ना।।

केलवा जे फरेला घवद से,ओह पर सुगा मेडराय।।

उगु न सूरज देव भइलो अरग के बेर।।

हम करेली छठ बरतियां से उनके लागी।।

सेवि ले चरन तोहार हे छठ मईया, महिमा तोहार अपार ।।

बिहार एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश का महापर्व – छठ पूजा और परंपराएं

भारत पर्वों का देश है। यहां प्रत्येक दिन, प्रत्येक मास कोई न कोई पर्व अवश्य ही मनाया जाता है। पर्वोत्सव की दृष्टि से कार्तिक मास का विशेष है। इसी कार्तिक मास में एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण एवं पवित्र पर्व मनाया जाता है जिसे छठ पर्व के नाम से जाना जाता है। छठ पर्व बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के सर्वाधिक प्रचलित और लोकप्रिय धार्मिक अनुष्ठान के रूप में जाना जाता है। इस अवसर पर प्रत्यक्ष देव भगवान सूर्यनारायण की पूजा की जाती है। श्री बाल्मीकि रामायण मैं आदित्य ह्रदय स्त्रोत्र के द्वारा भगवान सूर्य की स्तुति करते हुए बताया गया है कि यही भगवान सूर्य- ब्राह्मा, विष्णु शिव, स्कन्द, प्रजापति, इंद्र कुबेर, काल, चंद्रमा और वरुण हैं तथा पितर आज भी यही हैं। हे राघव! विपत्ति में, कष्ट में, दुर्गम मार्ग में तथा किसी भय के अवसर पर यदि कोई पुरुष इन सूर्य देव का कीर्तन करता है उसे दुख नहीं भोगना पड़ता है। छठ पर्व सूर्योपासना का अनुष्ठान है। इस अनुष्ठान को वर्ष में दो बार- चैत्र तथा कार्तिक मास में संपन्न किया जाता है। दोनों ही मासों में शुक्ल पक्ष की षष्ठी एवं सप्तमी तिथि को छठ का आयोजन होता है। षष्ठी तिथि को अस्ताचलगामी सूर्य देव को सायंकाल अर्घ्य प्रदान किया जाता है और सप्तमी तिथि को प्रातः काल उदीयमान सूर्य को अर्घ्य दान किया जाता है।

छठ पर्व का सर्वाधिक महत्व उसकी पवित्रता में है, यों तो यह पर्व विशेष रूप से स्त्रियों द्वारा मनाया जाता है किंतु पुरुष भी इस पर्व को बड़े उत्साह से मनाते हैं। चतुर्थी तिथि को व्रती स्नान करके सात्विक भोजन ग्रहण करते हैं, जिसे बिहार की स्थानीय भाषा में- नहाए खाय- के नाम से जाना जाता है। पंचमी तिथि को पूरे दिन व्रत रहकर संध्या को प्रसाद ग्रहण किया जाता है इसे खरना या लोहंडी कहा जाता है। षष्ठी तिथि के दिन संध्याकाल में नदी या तालाब के किनारे व्रती महिलाएं एवं पुरुष सूर्यास्त के समय अनेक प्रकार के पक्वान्नो को बांस की सूप में सजाकर सूर्य को दोनों हाथों से अर्घ्य अर्पित करते हैं। सप्तमी तिथि को प्रातः काल उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के बाद प्रसाद ग्रहण किया जाता है।इसी दिन व्रत की समाप्ति भी होती है और व्रती द्वारा भोजन ग्रहण किया जाता है। किसी भी पर्व को मनाने के पीछे कोई न कोई कारण अवश्य ही होता है। छठ पर्व को मनाने के पीछे अनेक अनेक पौराणिक एवं लोक कथाएं हैं एवं एक लंबा इतिहास लिखा हुआ है।

भारत में सूर्य उपासना की परंपरा वैदिक काल से ही रही है। महाभारत की कथा में सूर्य -उपासना, पूजा का सविस्तार वर्णन मिलता है। वैदिक साहित्य में भी सूर्य को सर्वाधिक प्रत्यक्ष देवता माना गया है। सन्ध्योपासना रुप अवश्य करणीय कर्म में मुख्य रूप से भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है, उपस्थान किया जाता है और सूर्य मंडल में भगवान नारायण का ध्यान किया जाता है। छठ पर्व की एक लोकगाथा को द्रौपदी से जोड़ते हुए ऐसा कहा गया है कि जब पाण्डव जुए के खेल में अपना संपूर्ण राजपाट हार गए तब उन्हें राज्य छोड़कर जंगल जाना पड़ा था। पांडव जंगल में भटक रहे, तब द्रौपदी भी उनके साथ ही थी। पांडवों की स्थिति से दु:खी द्रौपदी ने जुए में खोए हुए राज्य की प्राप्ति और सुख समृद्धि की कामना को लेकर कार्तिक मास की षष्ठी तिथि को सूर्य की आराधना, उपासना की थी। द्रौपदी की अत्यंत श्रद्धा भक्तों से प्रभावित होकर भगवान सूर्य ने उसे मनोवांछित फल प्रदान किया था, जिससे पांडवों ने अपना खोया हुआ राज्य पुनः प्राप्त कर लिया था।

एक दूसरी कथा के अनुसार शर्याति नामक एक राजा थे। उनकी अनेक स्त्रियां थी, किंतु उन स्त्रियों से उन्हें मात्र एक कन्या पैदा हुई थी। चूंकि राजा की वह इकलौती संतान थी अतः वह उन्हें काफी प्रिय थी। वह अत्यंत सुंदर और चंचल भी थी। उसका नाम सुकन्या रखा गया था। एक बार की बात है कि राजा जंगल में शिकार खेलने गए। शिकार के ही क्रम में वह ससैन्य दस दिन तक जंगल में रहे। सखियों के साथ सुकन्या दी गई। एक दिन सुकन्या फूल लेने जंगल में गई और संयोग से वह एक स्थान पर पहुंच गई जहां च्यवन मुनि ध्यान मग्न हो तपस्या में लीन थे। वे तपस्या में इतने लीन थे कि उनके शरीर पर दीमक लग गई थी, किंतु इसका आभास तक उन्हें न हुआ था। बांबी से उनकी दोनों आंखे जुगनू की तरह चमक रही थी।

सुकन्या ने कौतूहल बस उन बॉबी के दोनों छिद्रों में जहां से प्रकाश आ रहा था तिनके डाल दिए, जिससे मुनि की दोनों आंखें फूट गई एवं उनके आंखों के फूटते ही उनके शाप से राजा के सैनिकों का मल मूत्र निकलना बंद हो गया। फल यह हुआ कि तमाम सैनिक दर्द एवं पीड़ा से झटपटाने लगे। राजा भी चिंतित हो गए। राजा ने सैनिकों से इस विषय में पूछा किंतु कोई कुछ बता न सका ।तब घबराते हुए सुकन्या ने पिता से अपना अपराध निवेदन कर दिया। फिर क्या था राजा सुकन्या को लेकर एवं उनके पास गए और हाथ जोड़ते हुए अपनी पुत्री का अपराध क्षमा करने तथा सेना के स्वस्थ हो जाने का निवेदन करने लगे और भोले प्रभु! मेरी कन्या के अनजाने अपराध के कारण आपकी यह दशा हुई है। अतः आपकी सेवा के लिए मैं अपनी कन्या सुकन्या को आपकी सेवा के लिए समर्पित करता हूं। कृपया इसकी सेवा को स्वीकार कर मेरी सेना को वेदना से मुक्त करें और मुझे कृतार्थ करें।

राजा के इस प्रस्ताव को सुनकर च्यवन ऋषि प्रसन्न हो गए। सुकन्या ऋषि के समीप रहकर उनकी सेवा करने लगी। कार्तिक मास में एक दिन सुकन्या जल लाने के लिए एक पुष्करणी के समीप गई। वहां पर उसने एक नागकन्या को देखा। सुकन्या ने नागकन्या से उपस्थिति का कारण पूछा। सुकन्या के पूछने पर नागकन्या ने बताया कि कार्तिक मास की षष्ठी तिथि को सूर्य की उपासना एवं व्रत करने पर मनोकामनाएं पूरी हो जाती है। सुकन्या ने भी पूरी निष्ठा के साथ छठ व्रत किया, जिसके प्रभाव से च्यवन मुनि को आंखों की ज्योति वापस मिल गई।
एक अन्य कथा के अनुसार मगध सम्राट राजा जरासंध के किसी पूर्वज को कुष्ठ रोगहो गया था। उन्हें कुष्ठ रोग से मुक्त करने के लिए शक्ल द्वीपीय ब्राह्मण मगध में उपस्थित हुए तथा सूर्योपासना के माध्यम से उनके कुष्ठ रोग को दूर करने में सफल हुए। कुष्ठ जैसे कठिन रोग को सूर्योपासना के माध्यम से दूर होते देखकर मगध के नागरिकों ने छठ पर्व को अपनाया और यह नागरिकों के मध्य महत्वपूर्ण हो गया।

षष्ठी व्रत की एक अन्य कथा को राजा प्रियव्रत से जोड़ा जाता है और यह प्रसिद्धि है कि महाराज स्वयंभू मनु के पुत्र राजा प्रियव्रत को अधिक समय बीत जाने के बाद भी कोई संतान उत्पन्न नहीं हुई। तदुपरांत महर्षि कश्यप ने पुत्रेष्टि यज्ञ कराकर उनकी पत्नी को चरू प्रदान किया। इससे कर्म तो ठहर गया किंतु मृत पुत्र उत्पन्न हुआ। मृतक पुत्र को देखकर रानी मूर्छित हो गईं। उसे लेकर प्रियव्रत शमशान गए ।पुत्र वियोग में प्रियव्रत ने भी प्राण त्यागने का यत्न किया। उसी समय मणियुक्त विमान पर एक देवी वहां आ पहुंची। मृत बालक को भूमि पर रखकर राजा ने उस देवी को प्रणाम किया और पूछा -” से सुव्रते आप कौन हैं? देवी ने कहा -“राजन! मैं ब्रह्मा की मानस मानस कन्या देवसेना हूं।

मेरे पिता ने स्वामी कार्तिकेय से मेरा विवाह किया था। मैं सभी मातृकाओं में विख्यात स्कन्दपत्नी हूं। मूल प्रकृति के छठे उत्पन्न होने के कारण मैं षष्ठी कहलाती हूं। मैं पुत्रहीन को पुत्र, निर्धन को धन, रोगी को आरोग्य तथा कर्मवान को उनके श्रेष्ठ कर्मों का फल प्रदान करती हूं। देवी ने आगे कहा-” तुम मेरा पूजन करो और अन्य जनों से भी कराओ।”- इस प्रकार कहकर देवी षष्ठी उस बालक को उठा लीं और खेल खेल में पुनः जीवित कर दिया। राजा ने उसी दिन घर जाकर बड़े उत्साह से नियमानुसार षष्ठी देवी की पूजा संपन्न की। चूंकि यह पूजा कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को की गई थी। अतः इस तिथि को षष्ठीदेवी या छठी देवी का व्रत होने लगा।

कहा जाता है कि मगध क्षेत्र में ही सबसे पहले सूर्य की पूजा पूजा शुरू हुई थी। मग ब्राह्मणों होने के कारण यह क्षेत्र मगध कहलाया और मग लोग सूर्य के उपासक थे। सूर्य की रश्मियों से चिकित्सा करने में इन्हें भारी सफलता मिली थी इसीलिए पूरी निष्ठा एवं नियम पूर्वक चार दिवसीय सूर्य- उपासना के रूप में छठ पर्व की परंपरा प्रचलित प्रचलित हुई और उत्तरोत्तर समृद्ध होती चली गई ।एक अन्य लोक मान्यता के अनुसार भगवान शिव के तेज से उत्पन्न बालक स्कंद को कृत्तिकाओं ने अपना स्तनपान कराकर बालक की रक्षा की थी उस समय स्कंध के छह मुख हो गए थे। कृतिकाओं द्वारा इन्हें दुग्धपान कराया गया था इसीलिए एक कार्तिकेय भी कहलाते हैं। लोक विश्वास है कि यह घटना जिस मास में घटी, उस मास का नाम कार्तिक पड़ गया। छठ मैया की पूजा कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को की जाती है। यह पर्व बच्चों के कष्ट निवारण एवं सुख- समृद्धि के लिए किया जाता है।

श्रीमद् देवीभागवत महापुराण के अनुसार मूल प्रकृति के षष्ठ अंश से उत्पन्न होने के कारण इस देवी का नाम षष्ठी देवी पड़ा। जो व्यक्ति षष्ठी देवी के बीज मंत्र का निष्ठा पूर्वक जप करता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। बीज मंत्र इस प्रकार है- ऊं ह्रीं षष्ठी देव्यै स्वाहा। यूं तो प्रत्येक महीने के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को षष्ठी देवी का पूजन होता है परंतु विशेषतः शरद् और बसंत ऋतु में षष्टि देवी के पूजन का विशेष महत्व है। तन और मन को रोग मुक्त रखने के लिए ही छठ व्रत का पालन करने की परंपरा विकसित हुई, ताकि छठ माता में श्रद्धा भक्ति रखने वाले प्रत्येक स्त्री-पुरुष वर्ष भर स्वस्थ और सुखी जीवन जी सकें। छठ व्रत का उत्सव लोकोत्सव है।यह लोक चेतना और लोक संस्कृति से अनुप्राणित है। लोक जीवन के सहज उल्लास से स्पंदित लोक अनुशासन से नियंत्रित यह पर्व बिहार की आत्मा है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Blog gorakhpur अध्यात्म इतिहास

सनातन मूल्यों की संवाहक देवरिया की पैकौली कुटी

वैष्णव संप्रदाय की सबसे बड़ी पीठ है पैकौली कुटी विवेकानंद त्रिपाठी (वरिष्ठ पत्रकार) सनातन जीवन मूल्यों के क्षरित होने वाले आधुनिक परिवेश में देवरिया जनपद स्थित पवहारी महाराज की गद्दी इन मूल्यों की थाती को बहुत ही संजीदगी के साथ संजोए हुए है। यह वैष्णव संप्रदाय की सबसे बड़ी पीठ मानी जाती है। कोई 300 […]

Read More
Blog ज्योतिष

साप्ताहिक राशिफल : 16 जून दिन रविवार से 22 जून दिन शनिवार तक

आचार्य पंडित शरद चंद्र मिश्र अध्यक्ष – रीलीजीयस स्कॉलर्स वेलफेयर सोसायटी सप्ताह के प्रथम दिन की ग्रह स्थिति – सूर्य, बुध और शुक्र मिथुन राशि पर, चंद्रमा कन्या राशि पर, मंगल मेष राशि पर, बृहस्पति वृषभ राशि पर, शनि कुंभ राशि पर, राह मीन राशि पर तथा केतु कन्या राशि पर संचरण कर रहे हैं […]

Read More
Blog ज्योतिष

साप्ताहिक राशिफल : 9 जून दिन रविवार से 15 जून दिन शनिवार तक

आचार्य पंडित शरद चंद्र मिश्र अध्यक्ष – रीलीजीयस स्कॉलर्स वेलफेयर सोसायटी सप्ताह के प्रथम दिन की ग्रह स्थिति – सूर्य, बुध और गुरू वृषभ राशि पर, चंद्रमा मिथुन राशि पर, मंगल मेष राशि पर, शुक्र मिथुन राशि पर, शनि कुंभ राशि पर, राहु मीन राशि और केतु कन्या राशि पर संचरण कर रहे हैं – […]

Read More
error: Content is protected !!